द्वारा लिखित :    जैक पूनन श्रेणियाँ :   धार्मिक? आध्यात्मिक
WFTW Body: 

प्रेरितों के 3 अध्याय में हम एक लंगड़े आदमी के चंगाई के विषय में पढ़ते है। उसकी आयु 40 साल से अधिक की थी, वह जन्म से लंगड़ा था, और उसे हर दिन मंदिर के सुंदर गेट नामक फाटक पर भीख माँगने के लिए लाया गया था। वह वहां कम से कम पिछले 20 वर्षों के लिए हर दिन बैठा हुआ होगा। यीशु ने उसे अक्सर देखा होगा। यीशु ने उसे हर बार पैसा दिया होगा - लेकिन कभी भी उसे चंगा नहीं किया। यीशु ने उसे क्यों चंगा नहीं किया? क्योंकि उन्होंने अपने पिता से इसे करने के लिए कोई मार्गदर्शन नहीं पाया। कुछ लोग यह कल्पना करते है कि यीशु चारों ओर सभी को चंगा करने के लिए गए। उन्होंने ऐसा नहीं किया। वे बेतहसदा के कुण्ड के पास गए, जहां बीमार लोगों की भीड़ हुआ करती थी और वहाँ उन्होंने केवल एक लंगड़े आदमी को चंगा किया। उन्होंने कभी मंदिर के फाटक पर पङे इस पुरूष को चंगा नहीं किया। यदि यीशु ने उसे चंगा किया होता, तो इस आदमी के चंगा होने के माध्यम से प्रेरितों के 3 और 4 अध्याय में हुआ पुनर्जागरण, कभी नहीं होता।

हम परमेश्वर के काम में बाधा लेकर आ सकते है यदि हम प्रार्थना में परमेश्वर की इच्छा को मांगे बिना, हमारे अपने चैतन्य के अनुसार कार्य करे। यही कारण था कि यीशु ने मार्था से कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह नहीं था कि हम उनके लिए कुछ सेवा करे, लेकिन सबसे पहले उन्हें सुने (जैसे मरियम ने किया था) और फिर हम उसे करे जिसे वे हमें कहते है। उस आदमी के चंगा होने के लिए पिता का समय पिन्तेकुस्त के दिन के बाद पतरस के द्वारा था। यह हमें एक शिक्षा सिखाती है। यदि हमारे पास एक आध्यात्मिक वरदान है, हमें उसका प्रयोग तब ही करना चाहिए जब परमेश्वर उसके प्रति हमें नेतृत्व करते है - और तब नहीं जब हमें उसे करने में श्रेष्ठ समझे। अन्यथा, हम परमेश्वर के उद्देश्यों में बाधा लेकर आते है। लेकिन कौन इन बातों को आजकल समझता है?

अधिकांश विश्वासी पवित्र आत्मा के संपर्क में नहीं हैं। वे इस प्रकार के व्यवस्थाओं में जीते हैं कि "हर कोई अलौकिक रूप से चंगा किया जा सकता है", या "कोई भी अलौकिक रूप से चंगा नहीं किया जा सकता है" यह इस पर निर्भर करता है कि आप पेंटेकोस्टल है या पेंटेकोस्टल-विरोधी हैं।

हालांकि यीशु नियमों के अनुसार नहीं लेकिन पवित्र आत्मा के चलन के अनुसार जी रहे थे। जो लोग व्यवस्थाओं के अनुसार जीते हैं वे विधिक व्यक्ति हैं, और ऐसे लोग परमेश्वर की इच्छा को कभी पूरा नहीं कर सकते हैं। यीशु पवित्र आत्मा के संपर्क में थे - और पवित्र आत्मा ने उन्हें अपनी आत्मा में कभी यह स्वतंत्रता नहीं दी कि वे उस आदमी को चंगा करे। तो, हर बार जब यीशु उसके पार गए, उन्होंने उसे केवल पैसे दिए। इस प्रकार यीशु ने परमेश्वर की इच्छा पूरा की। बाद में जब पतरस उसके पास आया और उस आदमी ने पतरस से पैसा मांगा, पतरस ने कहा, "मेरे पास तुम्हें देने के लिए पैसे नहीं है, लेकिन यीशु के नाम में खड़े हो जाओ।" इसका परिणाम यह था कि 5000 लोगों ने उद्धार पाया। 5000 लोगों ने नए सिरे से जन्म लिया, क्योंकि यीशु ने 3 1/2 वर्षों के लिए पवित्र आत्मा की बात मानी, और इस आदमी को चंगा नहीं किया।

यह मेरे लिए एक बड़ी चेतावनी है - कैसे मैं परमेश्वर के काम में बाधा ला सकता हूँ , यदि मैं अपनी समझ का सहारा लेता हूँ" (नीतिवचन 3: 5), यदि मैं पवित्र आत्मा के नेतृत्व के बिना काम करता हूँ। हो सकता है कि मैं एक अच्छा काम कर रहा हूँ (क्या एक लंगड़े आदमी को चंगा करने की तुलना में कुछ श्रेष्ठ काम हो सकता है ??) लेकिन यह परमेश्वर की योजनाओं में बाधा लेकर आ सकता है। परमेश्वर के मार्ग हमारे मार्ग नहीं हैं। वह चतुर आदमी जो व्यवस्थाओं के अनुसार जीता है, परमेश्वर के प्रयोजनों के लिए एक बाधा है। कई मसीही जो ईमानदार सिद्धांतों और व्यवस्थाओं के साथ जीते हैं, वे परमेश्वर के काम में सबसे बड़े बाधा है। वह व्यक्ति जो पवित्र आत्मा को सुनता है, वह ही परमेश्वर के लिए सबसे अधिक उपयोगी है।